रोहतक: बाबा बनकर लोगों का भरोसा जीतकर उनके साथ गलत करने वाले राम रहीम इंसान को 25 अगस्त को सीबीआई की विशेष अदालत ने दोषी करार दिया। इसके बाद उसे सुनारिया की जेल में हेलीकॉप्टर द्वारा पहुँचाया गया। उस समय वह हेलीकॉप्टर में अकेला नहीं था बल्कि उसकी मुंहबोली बेटी हनीप्रीत भी उसके साथ हेलीकॉप्टर में बैठकर जेल गयी थी। राम रहीम ने यह कहा था कि उसकी बेटी को भी उसके साथ जेल में रहने की इजाजत दी जाये।

एक कार को घेरकर खड़े हैं कुछ पुलिस वाले:

बाद में सारा मामला सामने आ गया। दरअसल वह उसे अपनी बेटी की तरह नहीं बल्कि अपनी महबूबा की तरह मानता था। वह उसके साथ जेल में भी ऐयाशी करने का प्लान बना रहा था। राम रहीम के जेल जाने के लगभग 7 दिन बाद हनीप्रीत का एक वीडियो वायरल हुआ था। इस वीडियो में कुछ पुलिसकर्मी एक कार को घेरकर खड़े हैं। उसके बाद गाड़ी में बैठकर पुलिस वाले चले जाते हैं। कुछ पुलिस वाले इसकी फोटो भी ले रहे थे। उसके बाद से कुछ फोटो सोशल मीडिया पर वायरल भी हुई थी।

मैं विकास नंबर 3/783 के साथ जा रही हूँ फतेहाबाद:

इस फोटो में हनीप्रीत किसी के साथ दिखाई दे रही है। इसके साथ ही एक और फोटो वायरल हो रही है, जिसमें हनीप्रीत और उसके साथ वालों के नाम पते भी लिखे हुए हैं। सोशल मीडिया पर एक लेटर भी जमकर वायरल हो रहा है। इस लेटर में सबसे ऊपर लिखा है, सिपाही विकास नंबर 3/783। उसके निचे विकास के हस्ताक्षर हैं। उसके बाद निचे लिखा है, मैं हनीप्रीत इंसान सही सलामत विकास के साथ फतेहाबाद जा रही हूँ। उसके निचे हनीप्रीत ने अपने हस्ताक्षर किये हुए हैं। साथ ही तीन अन्य लोगों के नाम व पते के साथ हस्ताक्षर हैं।

हनीप्रीत पर दर्ज किया गया देशद्रोह का मुकदमा:

निचे लिखा है, हम उपरोक्त बाबा राम रहीम की पुत्री हनीप्रीत को अपने साथ आज दिनांक 25 अगस्त 2017 को सही सलामत अपने साथ और हनीप्रीत की मर्जी से ले जा रहे हैं। उन्हें उनके घर तक पहुँचाने के जिम्मेदार हम हैं। इस समय हरियाणा पुलिस हनीप्रीत की तलाश सरगर्मी से कर रही है। उसके खिलाफ देशद्रोह का भी मुकदमा दर्ज किया गया है। जिस दिन जज जगदीप सिंह न ए राम रहीम को दोषी करार दिया, उस दिन हनीप्रीत पंचकुला में ही मौजूद थी।

25 अगस्त को ही गिरफ्तार हो गयी होती तो आज ये नहीं होता:

केवल यही नहीं दंगे शुरू होने के बाद वह राम रहीम के साथ हेलीकॉप्टर में बैठकर सुनारिया जेल भी गयी थी। हनीप्रीत को लेकर तरह-तरह की खबरे उड़ रही हैं। लोग कह रहे हैं कि वह नेपाल के रास्ते होते हुए विदेश भाग चुकी है। हनीप्रीत के सिरसा में अपने मामा के घर छुपे होने की भी आशंका लगायी जा रही थी। लेकिन जब पुलिस ने वहाँ जाँच की तो कुछ पता नहीं चला। पुलिस सूत्रों के अनुसार पुलिस की एक टीम को नेपाल भी भेजा गया है। यह भी कहा जा रहा है कि अगर पुलिस हनीप्रीत को 25 अगस्त को ही गिरफ्तार कर लेती तो आज ये हालत ना होती।