गीत संगीत को ऐसे ही नहीं कहा जाता है, कि यह बड़े से बड़े रोग को भी ठीक कर देता है। यह इंसान के दिमाग को स्थिर रखता है और उसके दर्द को भी कम करता है। ध्यान लगानें के लिए संगीत से अच्छा कुछ नहीं होता है। अक्सर आपने देखा होगा कि जहाँ कहीं भी मेडिटेशन सेंटर होता है, वहाँ संगीत हमेशा बजता रहता है। यह इंसान के मन को शांत रखने का काम करता है।

ट्यूमर उस हिस्से में था जहाँ से नियंत्रित होती है संगीत की क्षमता:

हाल ही में एक ऐसा वीडियो वायरल हो रहा है, जिसे देखकर यक़ीनन हर कोई हैरानी में पड़ जायेगा। जी हाँ यह वीडियो कहीं और का नहीं बल्कि एक ऑपरेशन थिएटर का है। अमेरिका में ब्रेन सर्जरी का बड़ा ही अजीबो-गरीब मामला सामने आया है। दरअसल मरीज आराम से सेक्सोफोन बजा रहा था और डॉक्टरों की टीम ने उसके ब्रेन के ट्यूमर की सर्जरी की। डॉक्टरों के अनुसार मरीज के मस्तिष्क में ट्यूमर उस जगह पर था, जहाँ से संगीत सम्बन्धी क्षमता नियंत्रित होती है।

फैबियो को नहीं था कैंसर वाला ट्यूमर:

बताया जा रहा है कि डैन फैबियो न्यूयार्क के एक स्कूल में संगीत का टीचर है। साथ ही वह संगीत में मास्टर की पढ़ाई भी कर रहा है। एक दिन उसे पता चला कि उसके ब्रेन में ट्यूमर है। आपको बता दें उसके ब्रेन में जो ट्यूमर था, वह कैंसर वाला ट्यूमर नहीं था। यूनिवर्सिटी ऑफ़ रॉचेस्टर मेडिकल सेंटर के न्यूरोसर्जन वेब पिलचर ने उसकी सर्जरी में मुख्य भूमिका निभाई।

संगीत के दौरान हो रहा था मस्तिष्क के ऑक्सीजन के स्तर में बदलाव:

वह जब पहली बार फैबियों से मिले तो उन्हें संगीत की क्षमता गंवाने को लेकर बड़ा आश्चर्य हुआ। इसके बाद डॉक्टरों ने अपनी मेहनत से एक नई तकनीक इजाद की और उसे जांचने के लिए फैबियो को उसे देखकर गुनगुनानें के लिए कहा। इससे उसके मस्तिष्क में ऑक्सीजन के स्तर में बदलाव का पता चला। इसके आधार पर संगीत के दौरान सक्रिय रहने वाले हिस्से की पहचान की गयी। इसके बाद फैबियो सेक्सोफोन बजाता रहा और डॉक्टरों ने ऑपरेशन किया।

वीडियो देखें: