बस में बिना टिकट इंसांनों के पड़के जाने पर जुर्माना देते तो आपने सुना या देखा होगा लेकिन ये पहली दफा है जब एक कबूतर के बिना टिकट सफर करने पे जुर्माना देने की नौबत आ गयी।

कबूतर का टिकट काटा गया है या नहीं 

दरअसल, आपकी जानकारी के लिए बता दें की बस या ट्रैन में अगर आप किसी पालतू पशु या पक्षी के साथ सफर करते है तो आपको अपने साथ-साथ उनके लिए भी टिकट लेना होता है। ऐसा ही एक मामला सामने आया है तमिलनाडु के हारूर शहर और आदिवासी गांव एल्लावाड़ी के बीच चलने वाली बस में, इस बस के एक कंडक्टर पे सिर्फ इसलिए जुर्माना लगा दिया गया क्यूंकि उसने एक कबूतर को बिना टिकट बस में सफर करने दिया।
रास्ते में कॉर्पोरेशन के अधिकारियों ने टिकट जांच के लिए बस रुकवा दी। टिकट इंस्पेक्टर ने एक शराबी आदमी को कबूतर से बातें करते हुए देखा। कबूतर उस के हाथ में था। नियम के मुताबिक अगर कोई जानवर या चिड़िया बस में सफर करे तो उनके लिए टिकट लेना अनिवार्य है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए टिकट इंस्पेक्टर ने कंडक्टर से पूछा कि क्या कबूत का टिकट काटा गया है या नहीं?

कंडक्टर के खिलाफ ज़रूरी कार्रवाई

कंडक्टर ने इंस्पेक्टर को बताया कि जिस वक्त आदमी बस में बैठा था उस वक्त उसके साथ कबूतर नहीं था. लेकिन इंस्पेक्टर ने कंडक्टर की एक भी बात नहीं मानी और उसके खिलाफ मेमो जारी कर दिया. तमिलानडु स्टेट ट्रांसपोर्ट कॉर्पोरेशन के मुताबिक अगर कंडक्टर को नियम तोड़ने का दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ ज़रूरी कार्रवाई की जाएगी.
अगर आप ऐसे किसी कानून से अब तक अनजान थे तो आगे से अपने पालतू पशुओं या पक्षियों के साथ सफर करने वक़्त उनका टिकट लेने बिलकुल न भूलें।