आज के समय में ख़ूबसूरती बरकरार रखने के लिए कईं प्रकार के महंगे प्रोडक्ट्स और क्रीमें मार्किट में उपलब्ध हैं. लड़कियां लड़कों को अपनी और आकर्षित करने के लिए हर संभव मेकअप एंड लुक्स अपनाती हैं. मगर क्या आपने कभी सोचा है कि पुराने समय में यह महंगे कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स नहीं थे लेकिन फिर भी रानियाँ राजायों को अपनी और कैसे आकर्षित थी? दरअसल, उस समय में रानियों के पास पुराने आयुर्वेदिक तरीके होते थे, जिन्हें अपना कर वह अपनी ख़ूबसूरती बरकरार रखती थी और उस समय के राजायों को अपनी ओर सम्मोहित करती थीं. आज के इस आर्टिकल में हम आपको कुछ पुराने कास्मेटिकस के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें अपना कर रानियाँ खुद को और अधिक सुंदर एवं आकर्षित बनाती थी.

पुराने समय के राजा और महाराजाओं को शराब एवं बीयर काफी पसंद होती थी. बीयर बालों के लिए बेहद फायदेमंद और असरदायक सिद्ध होती है. इतना ही नहीं बल्कि बीयर आपकी स्किन के लिए भी रामबाण सिद्ध होती है. ऐसी मान्यता है कि पुराने जमाने की रानियां अपने चेहरे को सुंदरता प्रधान करने के लिए दूध के पाउडर में अंडे की सफेदी, नींबू का रस और मदिरा यानी बीयर मिलाकर इसका मिश्रण तैयार करके अपने चेहरे पर लगा दी थी जिससे उनकी स्किन हमेशा नरम मुलायम और जवां बनी रहती थी.

आपने अक्सर गुलाब जल का इस्तेमाल चेहरे पर किया होगा. आपको यह जानकर हैरानी होगी पुराने समय में रानियां गुलाब की पंखुड़ियां पानी में मिलाकर नहाती थी. इतना ही नहीं बल्कि वह गुलाब जल का उपयोग अपने चेहरे पर भी करती थी. सुंदरता बरकरार रखने के लिए गुलाबजल एकमात्र सस्ता एवं आसान उपाय है जो कि आसानी से मिल जाता है. दिन में दो बार गुलाब जल चेहरे पर लगाने से आपकी स्किन सॉफ्ट और ग्लोइंग हो जाएगी. आप चाहे तो अपने नहाने के पानी में भी गुलाब जल को मिलाकर नहा सकती हैं.

अखरोट खाने में जितने अच्छे होते हैं, उतने ही अधिक उनमें औषधीय गुण पाए जाते हैं. अखरोट को एंटी एजिंग माना जाता है इसे खाने से चेहरे पर बढ़ती उम्र के निशान और झुरिया नहीं दिखती. अगर आप रोजाना अखरोट खाएं तो कुछ ही दिनों में आपको अपनी त्वचा और चेहरे पर फर्क साफ नजर आएगा. पुराने समय की रानियां खूब अखरोट खाते थे जिनके कारण उनकी बढ़ती उम्र का असर उनकी स्किन पर नहीं दिखता था. ऐसा माना जाता है कि राजा और रानी अखरोट और गाजर खाना बेहद पसंद करते थे इससे उनका शरीर स्वस्थ और शेप में बना रहता था.

आजकल की लड़कियों में सबसे बड़ी समस्या जो पाई जा रही है वह है बालों का झड़ना. दिनभर की कामकाज और भागदौड़ में धूल मिट्टी के कारण बालों की जड़ों में चले जाते हैं. जिनसे हमारे बालों की जड़े कमजोर हो जाती हैं और बाल टूट कर बिखरने लगते हैं. इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए लड़कियां हर प्रकार के कॉस्मेटिक प्रोडक्ट का इस्तेमाल करती हैं परंतु यह समस्या खत्म होने का नाम नहीं लेती. वहीं अगर पुराने समय की रानियों के बारे में बात करें तो वह अपने बालों की खूबसूरती और लंबाई बढ़ाने के लिए उन्हें शहद और जैतून के तेल का इस्तेमाल करती थी. इन दोनों तत्वों को इस्तेमाल करके उनके बाल अधिक मजबूत और चमकदार दिखाई देते थे.

पुराने समय की रानियां नहाने के बाद खुद पर इत्र का छिड़काव ज़रूर करती थी. ऐसा करने से उनका शरीर और भी अधिक तरोताजा एवं सुगंधित हो जाता था. ऐसे में जब भी कोई राजा उनके सामने गुजरता था तो वह उनकी तरफ खिंचा चला जाता था. इसके इलावा हर रोज इत्र का इस्तेमाल करने से हमारी त्वचा का रूखापन भी दूर होता है.

हालांकि आपको यह पढ़कर अजीब लगेगा परंतु यह सच है कि रानियां गधी के दूध से नहाती थी. यह दूध हमारी स्किन के लिए बेहद फायदेमंद होता है. ऐसा माना जाता है कि पुराने समय की रानियां गधी के दूध में शहद और जैतून का तेल मिलाकर नहाती थी जिससे वह हमेशा सुंदर एवं जमा नजर आती थी. आपको हम बता दें कि गधी के दूध में एंटी एजिंग के गुण मौजूद रहते हैं जिससे बुढ़ापा आपसे कई गुना दूर बना रहता है