नमस्कार दोस्तों आप सभी लोगों का हमारे लेख में स्वागत है आपको बता दें कि पूर्णिमा की तिथि धन की देवी माता लक्ष्मी जी और भगवान विष्णु जी की कृपा प्राप्त करने का दिन होता है वैसे देखा जाए तो साल की हर पूर्णिमा अपने आप में खास होती है परंतु वैशाख पूर्णिमा का महत्व अधिक माना जाता है क्योंकि यह पूर्णिमा भगवान बुद्ध के अवतार दिवस के रूप में मनाई जाती है आपकी जानकारी के लिए बता दे कि भगवान बुद्ध विष्णु के नौवे अवतार हैं इसी वजह से इस दिन की पूर्णिमा का महत्व बहुत ज्यादा माना गया है इस बार बुद्ध पूर्णिमा 30 अप्रैल को है और इस दिन सिद्धि योग भी बन रहा है यदि इस योग में कोई भी शुभ कार्य किये जाए तो उन कार्यों की पूर्ण सिद्धि प्राप्त होती है और इस दिन किए गए मंत्र भी तुरंत असरकारक सिद्ध होते हैं आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बुद्ध पूर्णिमा के दिन क्या करना चाहिए इसके बारे में जानकारी देने वाले हैं।

आइए जानते हैं इसके बारे में

मानसिक कष्टों से छुटकारा:-

जिन व्यक्तियों को मानसिक कष्ट है और वह अपने मानसिक कष्टों से छुटकारा प्राप्त करना चाहते हैं तो वह व्यक्ति इस दिन रात में चांदी के बर्तन में साफ पानी में थोड़ा सा गंगाजल डालकर रात भर चांद की चांदनी में रख दीजिए फिर इस जल को चांदी के ही बर्तन में भरकर रख लीजिए उसके बाद इस जल को थोड़ा-थोड़ा रोजाना पियें यदि आप ऐसा करते हैं तो आपका मानसिक रोग ठीक हो जाएगा आप इस जल में और जल मिलाते रहे तो यह जल कभी खत्म नहीं होगा यह जल आपको बहुत से मानसिक रोगों में राहत प्रदान करता है।

पूर्णिमा के दिन मिश्री डालकर खीर बनाएं:-

  • आप पूर्णिमा के दिन मिश्री डालकर खीर बना लीजिए और इसे 12 साल तक की 7 कन्याओं का पूजन करके उन्हें यह खीर खिलाएं यदि आप ऐसा करते हैं तो इससे आपकी आर्थिक सम्पन्नता बनी रहेगी और आपके व्यापार में लाभ प्राप्त होगा और जो व्यक्ति नौकरी पेशा वाले हैं उनको पद में उन्नति प्राप्त होगी।
  • वैसे देखा जाए तो हर व्यक्ति को अपने घर में साफ सफाई रखनी चाहिए जिससे घर में सकरात्मक ऊर्जा का आगमन रहे परंतु पूर्णिमा के दिन आपको इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए कि सूर्य उदय से पहले उठकर घर में साफ-सफाई कर लीजिए उसके पश्चात स्नान करने के बाद घर में गंगाजल और गोमूत्र का छिड़काव कर दीजिए घर के मुख्य द्वार पर हल्दी रोली या कुमकुम से स्वस्तिक बना दीजिए आप अपने कार्यस्थल पर भी गंगाजल का छिड़काव कर दीजिए।

पूजा के समय गाय के घी का दीपक जलाएं:-

आप पूर्णिमा के दिन पूजा करते समय धूप लगाएं और कपूर जलाएं और दीपक जलाने के लिए गाय के घी का प्रयोग करें और अपने परिवार सहित देवी लक्ष्मी विष्णु और भगवान बुद्ध की पूजा कीजिए धन की देवी माता लक्ष्मी जी को मखाने की खीर साबूदाने की खीर या किसी सफेद मिठाई का भोग लगाइए पूजा समाप्त होने के बाद आप इस प्रसाद को बांट दीजिए आपको इस बात का खास ध्यान देना होगा कि इस दिन घर में किसी प्रकार का कोई वाद विवाद या कोई कलह का माहौल नहीं होना चाहिए।

संध्या के समय चंद्रमा को जल अर्पित कीजिए:-

  • आप इस दिन सुबह और शाम को मंदिर अवश्य जाइए और हनुमान जी के समक्ष चमेली के तेल और पीपल के नीचे सरसों का तेल का दीपक जलाइए यदि इस दिन हनुमानजी को चोला चढ़ाया जाए तो सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।
  • आप संध्या के समय चंद्रमा को जल चढ़ाइए और धूप दीप से उनकी पूजा कीजिए इससे आपके ऊपर भगवान जी की कृपा बनेगी।
  • आप पूर्णिमा के दिन रात के समय तुलसी की माला से “ऊं नमो भगवते वासुदेवाय” मंत्र का लगातार जाप कीजिए यदि आप यह जाप करते हैं तो इससे विष्णु जी और माता लक्ष्मी जी की कृपा प्राप्त होगी और इसके साथ ही धन की प्राप्ति होगी।

नोट:- यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी तो आप नीचे दिए हुए कमेंट बॉक्स में हमको कमेंट कर सकते हैं और इस पोस्ट को अपने मित्रों के बीच शेयर भी कर सकते हैं हम आगे भी इसी प्रकार से जानने योग्य जानकारियां लेख के माध्यम से लाते रहेंगें।