वैसे तो हमारे शरीर पर कई तिल और निशान होते हैं जो कुछ तो हमें बचपन से ही प्राप्‍त होते हैं और कुछ बड़े होने पर अपने आप बन जाते हैं। इन निशानों को तिल, लाल या मस्‍सा कहा जाता है। लेकिन शास्‍त्रों में इन छोटे छोटे निशानों के बारे में बहुत कुछ विशेष बताया गया है जो शायद आपको पता भी नहीं होगा। ज्योतिष विज्ञान के अनुसार इंसान के शरीर पर इन निशानों को देखकर उसके भूत, भविष्य व वर्तमान से लेकर उसके स्वभाव व चरित्र के बारे में बताया जा सकता है।

ये निशान शरीर के किसी भी अंग पर हो सकते हैं, कभी कभी ये निशान ऐसे होते हैं जो इंसान के व्यक्तित्व को ज्यादा प्रभावशाली दिखाते हैं और इससे चेहरे की सुन्दरता में भी निखार आ जाता है। आज हम आपको इन तिलों के बारे में कुछ खास बातें बताने जा रहे है।

माथे: अगर किसी भी इंसान के माथे पर बीचों बीच में तिल हो तो इसे निर्मल प्रेम की निशानी माना गया है और यही तिल अगर माथे के दाहिने हिस्से पर हो तो व्‍यक्ति के कार्य में निपुणता या धनवृद्धि का संकेत देता है और अगर माथे के बाएं तरफ तिल हो तो व्‍यक्ति के फिजूलखर्ची का संकेत देता है।

भौह: अगर किसी भी इंसान के भौह पर तिल हो तो वह ज्यादातर यात्रा पर रहेगा। अगर ये तिल दाये भौह पर है तो सुखी दाम्पत्य जीवन और अगर बाये भौह पर तिल है तो दुखी दाम्पत्य जीवन बिताएगा।

आँख की पुतली: अगर किसी इंसान के दाएं आँख की पुतली पर तिल है तो वह उच्च विचार का होगा। अगर यही तिल बाई आँख की पुतली पर है तो वो व्‍यक्ति ह्रदय से भावुक और संवेदनशील होगा।

पलकों पर तिल: अगर किसी इंसान के पलकों पर तिल हो तो वह इंसान संवेदनशील माना जाता है। ध्‍यान देने वाली बात ये है कि दाई पलक पर तिल वाला बाई पलक पर तिल वाले से ज्यादा संवेदनशील माना जाता है।

आँख पर तिल: अगर किसी इंसान के दाई आँख पर तिल होता है तो उस व्‍यक्ति का अपने जीवनसाथी के साथ संंबंध अच्छा होता है और जिसकी बाई आँख पर तिल होता है उसके और जीवनसाथी के बीच उतार चढाव आते रहते है।

कान पर तिल: अगर किसी इंसान के कान पर तिल होता है तो माना जाता है कि उसकी आयु लंबी होती है।

नाक पर तिल: अगर किसी इंसान के नाक पर तिल होता है तो उसे प्रतिभाशाली और सुखी होने की निशानी माना जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here